top of page

अश्वगंधा ईश्वर का एक आशीर्वाद- हृदय रोगियों और कैंसर रोगियों के लिए बहुत मददगार- उपयोग की विधि

(Dr. Mahesh Kumar Saini (p), PhD Medicinal Plant Biotechnology, HOD Science Department Vasundhara PG Mahila Mahavidhya)

वैज्ञानिक नाम: विथानिया सोम्निफेरा परिवार: सोलानेसी

अश्वगंधा में पाये जाने वाले अनेक पदार्थ हैं जो रोगोंको ठीक करने में उपयोगी हैं:

रुट एक्सट्रेक्ट = न्युरोटिक आउट ग्रोथ रोकने मे, मेमोरी बढ़ने में, न्यूरॉन की सुरक्षा में

विथनॉलिडे A = न्युरोटिक आउट ग्रोथ रोकने मे, एक्सॉन के पुनः निर्माण एवं सिनेप्टिक पुनः निर्माण मे, मेमोरी बढ़ने में।

इथनोसिडे IV= एक्सॉन के पुनः निर्माण एवं सिनेप्टिक पुनः निर्माण मे, मेमोरी बढ़ने में।

सोम्निओने = सिनेप्टिक पुनः निर्माण मे

डेनोसोमिने= न्यूरोन की सुरक्षा में

अश्वगंधा निम्नलिखित रोगों में उपयोगी हो सकता है:

दिल की सेहत

अश्वगंधा से दिल की सेहत को कई तरह के फायदे हो सकते हैं, जिसमें उपचार भी शामिल है: उच्च रक्तचाप (BP), उच्च लेस्ट्रॉल (Cholesterol), छाती में दर्द (Chest Pain), दिल की बीमारी. इंटरनेशनल जर्नल ऑफ आयुर्वेद रिसर्च में प्रकाशित एक मानव अध्ययन (Human Study) में पाया गया कि हृदय स्वास्थ्य के लिए जड़ी बूटी का उपयोग करना (एक अन्य आयुर्वेदिक जड़ी बूटी के साथ संयोजन में) मांसपेशियों की ताकत और धीरज में सुधार करने में सहायक था।

कैंसर

कुछ बहुत ही आशाजनक अध्ययनों में पाया गया कि अश्वगंधा कुछ कैंसर में कोशिका वृद्धि को रोकने में सक्षम हो सकता है। पशु अनुसंधान ने फेफड़ों के ट्यूमर को कम करने की क्षमता दिखाई। उत्साहजनक निष्कर्ष हैं जो सुझाव देते हैं कि जड़ी बूटी में स्तन, फेफड़े, गुर्दे और प्रोस्टेट सहित मानव कैंसर को धीमा करने की क्षमता है।

Historical Perspective

ऐतिहासिक रूप से, अश्वगंधा की जड़ों का उपयोग (गठिया, कब्ज़, अनिद्रा, त्वचा की स्थिति, तनाव, जठरांत्र संबंधी मुद्दों, मधुमेह, नर्वस ब्रेकडाउन, बुखार, साप का काटना, स्मरण शक्ति की क्षति) इलाज के लिए किया गया है:I अश्वगंधा का उपयोग आमतौर पर तनाव के लिए किया जाता है। जड़ी बूटी कुछ कैंसर, अल्जाइमर और चिंता के लिए फायदेमंद हो सकती है, लेकिन अधिक शोध की आवश्यकता है।

चिंता:

यह संभव है कि अश्वगंधा दवा लोरज़ेपम (एक शामक और चिंता दवा) की तुलना में चिंता लक्षणों पर एक शांत प्रभाव पड़ता है। फाइटोमेडिसिन पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि जड़ी बूटी में चिंता के स्तर को कम करने की क्षमता थी। अश्वगंधा का सुझाव चिंता कम करने के लिए उतना ही प्रभावी हो सकता है।

गठिया & दर्द निवारक

अश्वगंधा एक दर्द निवारक माना जाता है जो तंत्रिका तंत्र पर काम करता है ताकि दर्द संकेतों को भेजा जा सके। एक शोध में पाया गया कि जड़ी-बूटियों के इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल रिसर्च में गठिया के इलाज के विकल्प के रूप में मजबूत क्षमता है।

अल्झाइमर डिजीज/ डेमेंटिया का अश्वगंधा से उपचार

स्पाइनल कॉर्ड के घाव को ठीक करने में पार्किंसन बीमारी में, हंटिंग्टन कोरिया बीमारी में भी अश्वगंधा बहुत उपयोगी है। पाउडर के रूप में तैयार करके अश्वगंधा का उपयोग किया जाता है।

अश्वगंधा के जड़ का पाउडर बनाने की विधि

आयुर्वेद कहता है कि सबसे पहले आपको किसी भी गंदगी या रेत को हटाने के लिए अश्वगंधा की जड़ को साफ पानी से धोना चाहिए।अब एक चौड़ी प्लेट लें और उस प्लेट में इन जड़ों को फैला दें और इन जड़ों को पूरी तरह से सूखने के लिए इस प्लेट को सूरज की किरणों के नीचे 4 -5 घंटे के लिए रख दें। 5 घंटे के बाद, पाउडर बनाने के लिए इन जड़ों को पीस लें, बहुत महीन पाउडर पाने के लिए उस कपड़े को एक साफ कपड़े से छान लें। इस बारीक पाउडर को कांच की बोतल में स्टोर करें। अब अश्वगंधा की जड़ का पाउडर लेने का सबसे अच्छा तरीका है – 2 चम्मच अश्वगंधा पाउडर को 1 चम्मच कैंडी पाउडर (मिश्री) के साथ मिलाएं और इसे सामान्य पानी के साथ लें। बस इसके बाद एक गिलास गर्म दूध पिएं। बिस्तर पर जाने से पहले हर रात ऐसा करें।

गर्भवती महिलाओं को अश्वगंधा का उपयोग करने से बचना चाहिए क्योंकि इससे प्रसव जल्दी हो सकता है।

Please like our Facebook Page to get latest updates.

Please Join Our Telegram Channel to get latest updates.

Disclaimer: सेवन करने से पहले, अपने शरीर के अनुसार आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह जरूर ले I

Views are of Author, Fab Gyan has no responsibility what so ever arise.


0 comments

Recent Posts

See All

Notification No. 37/2017 –Central Tax: Related to LUT

[To be published in the Gazette of India, Extraordinary, Part II, Section 3, Sub-section (i)] Government of India Ministry of Finance (Department of Revenue ) [Central Board of Excise and Customs] Not

Comments


bottom of page